Sunday, September 23, 2018

कैसे रहे अपनी जॉब से खुश

                                            कैसे रहें  अपनी जॉब से खुश
HI DOSTON! अगर मैं भारत देश की बात करूँ तो आज भी यहाँ सिर्फ नौकरी को ही वरीयता दी जाती है. आज भी माँ बाप अपने बच्चो को सिर्फ इस लिए पढ़ाते हैं की पढ़ लिख कर उसकी एक अच्छी सी नौकरी लग जाए. और ये गलत भी नहीं है. आखिर हर माता-पिता चाहते हैं की उनके  बच्चो की लाइफ SECURE रहे. जॉब सिक्योरिटी बहुत ज़रूरी है. पहली PREFERENCE सरकारी नौकरी को ही दी जाती है. सरकारी नौकरी अपने देश में हर चीज़ से बढ़कर है. बहुत से लोग अपनी नौकरी से खुश रहते हैं तो बहुत से नहीं। पर हर कोई इसके सहारे अपनी ज़िंदगी काटने का लक्ष्य बना लेता है. कुछ लोग हँसते हँसते तो कुछ मज़बूरियों के कारण। यहाँ हम बात करेंगे की कैसे हम अपनी जॉब से खुश रहे.

ये बहुत ज़रूरी है की आप हर हाल में खुश रहने की आदत डालें। क्यूंकि  आप अगर प्रसन्न नहीं रहेंगे तो आप न अपनी जॉब से न्याय कर पाएंगे और न ही अपने परिवार को खुश रख पाएंगे। अगर आप अपने परिवार के मुखिया हैं तो आपको हर हाल में बैलेंस बना के चलना होगा। तभी आप एक आदर्श ज़िंदगी जी पाएंगे। दोस्तों यहाँ मैं बहुत बड़ी बड़ी बातें नहीं बताने वाला और न ही मैं किसी किताब से पढ़ी पढ़ाई बाते बताने वाला हूँ. यहाँ मैं अपने अनुभव से बहुत SIMPLE पांच बाते आपको बताना चाहता हूँ .
 तो दोस्तों नीचे दिए पांच तरीकों से आप अपनी जॉब से खुश रह सकते हैं.





1.समय से आएं समय से जाएँ: दोस्तों ये एक ऐसा बिंदु है जिस पर शायद हम ध्यान नहीं दे पातें हैं. किसी भी नौकरी में समय से आना और समय से जाना बहुत ज़रूरी है. आप अगर समय से जाएंगे तो इस बात की सम्भावना बहुत अत्यधिक है की आप अपना काम समय से ख़त्म भी कर लेंगे।  अगर आप लेट तक बैठेंगे तो न सिर्फ आप अपनी अधिक ऊर्जा खर्च कर रहे होंगे अपितु उतने समय तक आप अपने परिवार से भी दूर रहेंगे। इसका एक नुक्सान ये भी है की अगर आप 2-4 दिन लेट बैठेंगे तो  आपका बॉस या प्रबंधन चाहेगा की आप रोज़ उतने समय से ही जाए. इससे एक बहुत गलत सन्देश ये भी जाता है की जब आप समय से जाएंगे तो आपको ये बोल कर ताना दिया जाएगा की आज जल्दी क्यों जा रहे हो?
दोस्तों, अपना काम पूरी ईमानदारी से करें और अपनी INSTITUTION  या COMPANY से बिल्कुल  न्याय करें। पर देर तक बैठने की आदत हरगिज़ न डालें। इससे आप तनावग्रस्त हो सकते हैं जो आपकी  सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। ऐसा तो आप बिलकुल भी नहीं चाहेंगे ।


2.ना करें अपनी नौकरी से शादी: जी हाँ दोस्तों। शादी करने के लिए दुनिया में बहुत से लड़के-लड़किया है. पर नौकरी पेशे वाले लोग अक्सर  अपनी नौकरी से ही शादी कर लेते हैं. जब बुलाया जाए तब हाज़िर। ऐसे लोगों की पर्सनल लाइफ ना के बराबर होती है. काम बहुत है कह कर  रात तक ऑफिस में रुकना और कुछ ख़ास लोगों की नज़रों में "राजा बेटा" बनने के लिए ये खुद को सही justify करने की कोशिश करते हैं, पर दोस्तों आप ऐसा बिलकुल न करें। आप अपने इंस्टीटूशन को तो टाइम दे लेकिन सिर्फ उतना जितने में आपकी पर्सनल लाइफ Disturb  न हो. मैं देखता हूँ लोग संडे को भी ऑफिस खोल  के बैठ जाते हैं और काम का रोना रो कर खुद को तसल्ली दे देते है. फ्रेंड्स आप सोच कर देखिये की क्या कभी  काम  खत्म हो सकता है? जी नहीं। ये तो एक हमेशा चलने वाला प्रोसेस है. 

दोस्तों बेहतर यही है की आप काम का टाइम टेबल बनाएं और उसे समय से खत्म कर अपनी ऊर्जा को अन्य कामों में लगाएं। सिर्फ नौकरी मात्र को अपने जीवन का उद्देश्य न बना लें. अपने अन्य ज़रूरी कामों के लिए समय निकालें । और हाँ, अपनी नौकरी से शादी  तो बिल्कुल  न करें। कम से कम आपके परिवार को तो अच्छा बिलकुल नहीं लगेगा।


3. नौकरी के लिए न जियें, जीने के लिए नौकरी करें: ये तो स्वतः ही समझ जाइये दोस्तों। आप सिर्फ जीने के लिए अपनी नौकरी करें। नौकरी के लिए बिलकुल न जियें । कुछ लोग इतने महत्वाकांक्षी हो जाते हैं की promotions, good place इत्यादि पाने के लिए किसी भी हद तक गुजर जाते हैं. अंततः वो नौकरी के लिए जीना शुरू कर देते हैं. महत्वाकांक्षा  रखना अच्छी बात है पर एक सही रास्ते पर चलकर। आपका अच्छा काम आपको स्वतः ही आगे ले जाएगा। इसके लिए आपको लेट तक बैठ कर काम का बोझ ढोने की जरुरत बिल्कुल भी नहीं है. आप सिर्फ जीने के लिए ही नौकरी करें। ज़िंदगी को खुशहाल बनाने का प्रयास करें। 

जीवन दोस्तों एक ही बार मिलता है और इसे फुल एन्जॉय कर के जिएँ . परिवार को घुमाने ले जाएँ। मित्रों के साथ समय बिताएं। आप अपने सहकर्मियों के लिए उदहारण बनें। तब खुद लोग आपसे पूछेंगे की आप इतना खुश कैसे रह लेते हो? जीने का मकसद दोस्तों एक नौकरी बिल्कुल  भी नहीं हो सकता है. आप नयी नयी चीज़ें जीवन में करने का प्रयास करें और हमेशा आगे बढ़ते रहे. जीने का नाम ही ज़िंदगी है दोस्तों, वर्ना काट तो हर कोई लेता ही है इसे.


4.अपने काम से काम रखें: मैं अक्सर लोगों को देखता हूँ की वो अपने काम में रूचि कम और दूसरे क्या कर रहे हैं इसमें ज्यादा रूचि रखते है. आप तो कम से कम ऐसी आदत बिल्कुल भी ना डालें। इस दुनिया में कहावत है आप जैसा बीज बोओगे वैसा काटोगे। अगर आप किसी के काम में टांग अड़ाते हो तो कल को आप भी अपवाद नहीं रहोगे। तो आप अपना काम करिये और इन सब कामों से दूर रहिये। ऐसे कामों से आपका भला तो नहीं ही होगा बल्कि आपकी काम करने की प्रोडक्टिविटी ज़रूर कम हो जाएगी। वैसे भी दूसरों के कामों में इंट्रेस्ट लेने से अच्छा है की आप स्वयं को बेहतर बनाएं। जीवन में आध्यात्मिक बनें और अन्य लोगों से सिर्फ अच्छा ही बोलें। इससे आप देखेंगे की आपके आस पास का माहौल स्वतः ही अच्छा हो जाएगा और आप एक अच्छे कर्मचारी के रूप में जाने जाओगे। 

ये एक संस्था में  आगे बढ़ने के लिए एक बहुत ही मत्वपूर्ण बिंदु है और इस पर चिंतन करने की बहुत ज़रूरत है. वो कहते हैं न दोस्तों  अपने  इंडिया में की "राजनीति ने आज तक किसका भला किया" है. तो बस समझ ही जाइये। 


5.अपनी हॉबी को पहचाने और इसे आगे बढ़ाएं:फ्रेंड्स ये आखरी पर सबसे महत्वपूर्ण बिंदु है. मैं तो कहूंगा की बहुत ही ज़रूरी। नौकरी वाले लोग सिर्फ नौकरी और नौकरी में उलझ कर रह जाते हैं. इससे बाहर भी एक दुनिया होती है जिसमे झाकने तक की इन्हे फुर्सत नहीं होती।

दोस्तों अगर आप अपनी जॉब में तनाव मुक्त रहना चाहते हैं तो अपनी कोई न कोई hobbie ज़रूर बनायें। वो या तो किताब पढ़ना हो सकती है या फिर कविता लिखना । फोटोग्राफी,संगीत,समाजसेवा,खेलकूद इत्यादि ये कुछ भी हो सकता है. बचपन का आपका कोई अधूरा सपना हो सकता है आप उसे पूरा कर सकते हैं. आप ज़रूर अपनी मनचाही चीज़ों को समय दें. अपनी सोच को  एक नया आयाम दें. इससे ना सिर्फ आपका समय किसी अच्छी चीज़ में लगेगा बल्कि आपको एक संतुष्टि भी मिलेगी की आप खुद के लिए भी दो पल निकाल पा रहे हो.

तो आज से ही आप  अपने लिए जियें और नौकरी के साथ साथ खुद के लिए भी  टाइम निकालें। कभी भी दोस्तों अच्छा समय आता नहीं है, हमें अपने इसी समय को अच्छा बनाना पड़ता है.



कुछ लोग 24 घंटों में पूरा साल जी लेते हैं  तो कुछ लोग एक साल में अपने लिए 24 घंटे भी नहीं निकाल पाते। मैं तो दोस्तों अंत में इतना ही कहूंगा की आप में अगर आप हो तो ही आप और आपका परिवार खुश रह पायेगा। अगर आप अपनी हस्ती ही नौकरी को दे दोगे तो आप सिर्फ एक पैसा कमाने का पुतला मात्र बन कर रह जाओगे। तो खुद को खुद ही रहने दो यारों, क्यूंकि आप हो तो सब है आप नहीं तो कुछ भी  नहीं। 

दोस्तों आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी कमेंट में ज़रूर बताये।

हमारे ABOUT US तब में जा कर हमें फेसबुक और ट्विटर पर जरूर फॉलो करें।


2 comments:

  1. Superb.... Every employee should know this. Especially Bankers 😀

    ReplyDelete
  2. Nice lines for all naukripesha..need to be follow this.

    ReplyDelete