Tuesday, October 23, 2018

जीवन पर एक कविता

दोस्तों आज हम आपके लिए लाएं हैं ज़िंदगी पर एक कविता। ये कविता मैंने जीवन के मूल्यों को ध्यान में रख कर लिखी है. जीवन वैसे भी एक कविता समान है, जिसकी अगर शुरुआत होती है तो अंत भी ज़रूर होता है. हम सब माटी के पुतले हैं. हमारा कोई मूल्य नहीं है. ये जीवन की कड़वी सच्चाई है. ये सभी बाते हम सभी को पता हैं पर हम जीवन की भाग दौड़ में भूल जाते है.  इस कविता को पढ़ कर बेशक आपको अच्छा लगेगा। आपका अपना धमेंद्र।

दोस्तों आपसे विनम्र निवेदन हैं मेरे इस ब्लॉग को अपने मित्रों के साथ ज़रूर शेयर करें। इससे हमें आपके लिए नयी पोस्ट लिखने के लिए ऊर्जा मिलती है.




ज़िंदगी- आपधापी का नाम.

इस आपाधापी भरे जीवन से,
भर गया मन हर मंजर से,
यहाँ सुबह भी भागती सी है,
रात भी जागी जागी सी है,
सुकून भी यहाँ सुकून ढूंढ़ता हैं,
एहसास भी यहाँ एहसास से खाली है,
अंधी दौड़ ये पथ रहित ही है,
हर अभिलाषा खोई खोई सी है,
किताब के चार अक्षर याद कर के,
ज़िंदगी का सार ही भुला बैठे हम,
क्या पाना है कहाँ जाना है,
इस सावल का न कोई ठिकाना है,
यंत्रों में उलझ कर हम यंत्र हुए,
महत्वकांक्षा की आग में सब जल रहे,
बड़ी बड़ी इमारतों में हम आ गए,
छोटी छोटी खुशियाँ पीछे छोड़ आये,
पर्व भी आज कल सिर्फ यंत्रों में ही मनते हैं,
लोगों को सामने देख चेहरा ही छुपा लेते हैं,
कहने को छू लिया आज हमने चाँद, पर,
ठीक से जमीन पर चलना न आया हमें,
ये इंसानी चोले में कौन है समाया,
खुदा ने इंसान ऐसा तो नहीं था बनाया,
क्यों हम आज रगड़े झगडे में पड़े रहते हैं,
हर वक़्त एक दूसरे को काटने में लगे रहते हैं,
भूल गया इंसान खाली आया था खाली जायेगा,
मुट्ठी में भर के एक तक तिनका ना ले जा पायेगा,
अभी वक़्त है संभल जा ऐ इंसान,
नहीं तो आएगा कुदरत का तूफ़ान,
न तू बचेगा न तेरी हस्ती,
धरी की धरी रह जायेगी सारी तेरी पूंजी।
-धर्मेंद्र 

दोस्तों आपको हमारी ये कविता किसी लगी कमैंट्स में ज़रूर बताइयेगा।









Friday, October 19, 2018

HAPPY DASHEHRA




बातों का आशियाना के सभी पाठकों को विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनायें।






आप सभी को विजयदशमी की हार्दिक शुभकामनाये। राम जी के आदर्शों पर चलें और मर्यादित जीवन जीए. अपने अंदर के बुराई रूपी रावण को मारें और सदा खुश रहे.

TO FOLLOW US ON FACEBOOK PLEASE CLICK HERE

Thursday, October 18, 2018

अनमोल विचार

दोस्तों आज हम आपके लिए हिंदी में अनमोल विचार लाये है. आज जबकि इंसान के पास खुद के लिए वक़्त तक नहीं है, तब ऐसी अच्छी बाते और सुविचार ही हमारे जीवन को एक नया आयाम देने का काम करते हैं. आपने कभी न कभी इस जीवन को इस नजरिये से ज़रूर देखा होगा जो हम आज बताने जा रहे हैं. आज जो बाते मैं बताने जा रहा हूँ वो आपको कुछ पल के लिए अपने जीवन के बारे में ज़रूर सोचने पर मज़बूर कर देंगी।


1.मन को समझने वाली माँ और भविष्य पहचानने वाले पिता के अलावा दुनिया में कोई और ज्योत्षी नहीं होता।

2.जीत किसके लिए, हार किसके लिए और ये तकरार किसके लिए? यहाँ जो आया है वो जाएगा एक दिन, फिर ये एहंकार किसके लिए?
3.शिकायते तो बहुत है ऐ ज़िंदगी तुझसे, पर चुप इसलिए हूँ क्यूंकि जो तूने दिया वो भी बहुतों को नसीब नहीं होता।

Sunday, October 14, 2018

ME TOO MOVEMENT KYA HAI

ME TOO मूवमेंट क्या है? #METOO सोशल मीडिया पर क्यों वायरल हो रहा है? हर बड़ी सेलिब्रिटी दूसरे आदमी पर आरोप लगा रही है. हैश टैग #METOO सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है.  आरोप और प्रत्यारोप का दौर बदस्तूर जारी है. भारत में इसकी शुरुआत बॉलीवुड अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने की थी. उसके बाद नए नए चेहरे सामने आते गए. बॉलीवुड से लेकर राजनीतिक हस्तियों तक MEE TOO MOVEMENT के घेरे में हैं. अगर आपको अभी तक MEE TOO मॉवेन्ट के बारे में नहीं पता तो आज इस पोस्ट को पूरा पढ़िएगा, इससे आपको इस मूवमेंट के बारे में सारी जानकारी हो जायेगी।

1.मीटू मूवमेंट की शुरुआत अमेरिका देश से हुई थी जब वहां औरते अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में एक के बाद एक सोशल मीडिया पर आ कर बताने लगीं।

2.इसमें कामकाजी महिलाये अपने काम करने के स्थान पर हुई यौन शोषण की घटनाओ और हिंसा के बारे में खुल कर बताती हैं.

3.साल 2006 में अमेरिकन-अफ्रीकन महिला मानवाधिकार कार्यकर्ता तराना बर्क ने सबसे पहले अपने साथ हुई घटनाओं के बारे में बताकर इसकी शुरुआत की थी.

जानें: पृथ्वी शॉ के बारे में 10 रोचक जानकारियां

4.तराना ने सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट "my space" पर महिलाओं को अपने बारे में हुई आप बीती बताने को कहा.

5.अमेरिका में कई बड़ी हस्तिया ME TOO अभियान के तहत अपने साथ हुई हिंसा को सामने ला चुकी है.

6.हॉलीवुड एक्ट्रेस एल्सा मिलानो को साल 2017 में एक मैसेज मिला. उसमे लिखा था की अगर आपके साथ कभी भी यौन हिंसा हुई हो तो उसे हैश टैग metoo  के साथ सोशल मीडिया पर पोस्ट करें। मिलानो ने जब अपने साथ हुई आप बीती का खुलासा करने वाला ट्वीट किया तो देखते ही देखते ये मैसेज वायरल हो गया और इसने विश्व्यापी रूप ले लिया। हॉलीवुड की दूसरी एक्ट्रेस और अन्य सेक्टर्स की महिलाये भी इससे जुड़ गयीं।

7.भारत में अब तक नाना पाटेकर, कोरिओग्राफर गणेश आचार्य, सिंगर कैलाश खेर, अलोक नाथ और केंद्र सरकार के मंत्री अकबर पर ये आरोप लग चुके हैं. इसका सिलसिला अभी तक बदस्तूर ज़ारी है.

8.भारत सरकार ने साल 2013 में अधिनियम बनाया था जिसमे अगर किसी महिला के साथ कार्य स्थल में यौन उत्पीड़न हुआ है तो वो IPC की धारा 354(A ) में सम्बंधित के खिलाफ मुकददमा दर्ज करा सकती है. इसमें पांच साल तक की सजा का प्रावधान है.

दोस्तों किसी भी महिला के साथ हिंसा एक दंडनीय अपराध है. अगर किसी महिला के साथ कभी भी ऐसा कुछ हुआ है तो उसे आगे आकर बोलने का पूरा हक़ है. चाहे वो हिंसा सालों पहले ही क्यों न हुई हो. ऐसे मूवमेंट कहीं न कहीं महिलओं को शक्ति देते हैं की वो आगे आएं और खुल कर अपना पक्ष रख सकें। एक दूसरे को देख कर ही सही, कम से कम महिलाये अपने साथ हुई हिंसा को #meetoo  के जरिये बता तो रही ही हैं.

अब देखते हैं भारत में हैश टैग मीटू में कौन कौन से बड़े नाम और सामने आते हैं.

तो दोस्तों ये थीं #METOO के बारे में कुछ बाते। क्या आपको ये बाते पता थीं? कमेंट्स बॉक्स में अपनी राय ज़रूर बताइयेगा।

हमें FACEBOOK पर करने के लिए क्लिक करें:

मिलते हैं दोस्तों हमारी अगली पोस्ट में.













Friday, October 12, 2018

नवरात्री के बारे में 10 महत्वपूर्ण बातें।

दोस्तों,  नवरात्री के बारे में 10 रोचक बातें आपको आज हम यहाँ बताने जा रहे हैं. नवरात्री का 2018 में ही नहीं, प्राचीन काल से ही महत्व रहा है. हमारे भारत में साल में 2 बारे नवरात्री आती हैं. दोनों का अपना अपना महत्व हैं.
नवरात्री में भारत के लोग 9 दिनों तक लगातार व्रत रखते है. ऐसी मान्यता है की 9 दिनों तक व्रत रखने से माता खुश होती हैं और घर में सुख शान्ति बानी रहती है.
तो आइये आज हम जानते हैं नवरात्री के बारे में दस महत्व वाली बातें।


1. नवरात्री दो शब्दों का मेल है. पहला है नव जिसका अर्थ है नौ और रात्रि मतलब रात. दोनों को मिला दें तो बनता है नवरात्री। नवरात्री का साफ अर्थ है की आपको 9 रातों तक अन्न नहीं खाना है अर्थात व्रत रहना है. 

2. नवरात्री साल में दो बार मनाई जाती है. पहली नवरात्री को कहते है अश्विना नवरात्री जबकि दूसरी नवरात्री को कहते है महा नवरात्रि जो की अभी चल रही है. इसे महान नवरात्री भी कहा जाता है.

3. नौ दिनों तक चलने वाली नवरात्रि में शक्ति की नौ देवियों को अलग अलग दिनों में पूजा जाता है. ये देविया हैं:  दुर्गा, भद्रकाली, जगदम्बा, अन्नपूर्णा, सर्वमंगला, भैरवी, चन्द्रिका, ललिता, और मूकाम्बिका भवानी।

4. देवी दुर्गा और राक्षस महिसासुर के बीच दस दिनों तक युद्ध चला था. दसवें दिन दुर्गा ने महिसासुर का सर धड़ से अलग कर दिया था. इसी दिन को हम दशहरा के रूप में मनाते है.

5.  ये भी कहा जाता है की भगवन राम ने रावण को 10वे दिन मार दिया था. ये यद्ध भी इसी दौरान चला था. यही कारण है की लोग दशहरा पर रावण का पुतला जलाते हैं.

6. गरबा और डांडिया दो इसी दौरान किये जाने वाले प्रसिद्द नृत्य है. नवरात्रों के आखरी दिन जगह जगह नृत्य का आयोजन होता है. गुजरात और बंगाल में ये ख़ास तौर पर नृत्य किया जाता है.

7. नवरात्रि के आखिरी दिन बच्चो को लोग अपने अपने घरों में खाने पर बुलाते हैं. बालिकाओं को विशेष तौर पर आमंत्रित किया जाता है और लोगो बालिकाओं को देवी का रूप मानते हैं.

8. महिषासुर का सर बैल के सर के सामान था. क्यूंकि दुर्गा जी ने महिसासुर का सर काट दिया था, इसी को मानते हुए कुछ जगह बेलों की बलि देने का भी प्रचलन है.

9. एक मान्यता ये भी है की ब्रम्हा जी ने भगवान राम को रावण से लड़ने से पहले नौ दिनों तक पूजा करने को कहा था. इसी को मानते हुए लोग नवरात्री का त्यौहार मानते हैं. ऐसी मान्यता कई जगह है. 

10. नवरात्रि के आखरी दिन सभी अपना व्रत अन्न ग्रहण कर के तोड़ लेते हैं और कुछ जगह तो उसी शाम को पान खाने का भी प्रचलन है. 

तो दोस्तों आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें कमैंट्स में ज़रूर बताइयेगा।


मिलते है दोस्तों हमारी अगली पोस्ट में.